Jamia की रेजिडेंश‍ियल कोचिंग के 54 Students ने क्लीयर किया UPSC Mains


नई दिल्ली, Nit:

जामिया मिलिया इस्लामिया की रेजिडेंश‍ियल कोचिंग एकेडमी (आरसीए) में कोचिंग और प्रशिक्षण कर रहे 54 छात्रों ने यूपीएससी मेन्स क्लीयर कर लिया है. इन सभी छात्रों को सिविल सेवा मुख्य परीक्षा 2019 में सफलता मिली है. ये सभी उम्मीदवार अब यूपीएससी के इंटरव्यू फेज में हिस्सा लेंगे.

इन छात्रों को सिविल सेवा के जरिये राष्ट्र निर्माण के लिए विश्वविद्यालयक प्रतिबद्ध है. इन छात्रों को विश्वविद्यालय मुफ्त आवास, लाइब्रेरी सुविधा, क्लासरूम टीचिंग,  प्रैक्टिस टेस्ट आदि प्रदान किए जाते हैं. सीटों की उपलब्धता के आधार पर जामिया आरसीए अब कुछ और ऐसे योग्य उम्मीदवारों को ट्रेनिंग देगा जोा इंटरव्यू के लिए तैयारी करेंगे.उम्मीदवार जामिया की आध‍िकारिक वेबसाइट www.jmi.ac.in पर जाकर इसका विवरण प्राप्त कर सकते हैं.

आज से दस साल पहले 2010 में अपनी स्थापना के बाद से आरसीए, जेएमआई ने 190 सिविल सर्वेंट तैयार किए हैं. इसमें यूपीएससी की परीक्षाओं के माध्यम से आईएएस, आईएफएस, आईपीएस, आईआरटीएस आदि शामिल हैं. इसके अलावा, स्टेट लेवल की सिविल सेवाओं में एसडीएम और डीएसपी के रूप में अफसर दिए हैं. वहीं असिस्टेंट कमांडेंट (सीएपीएफ), आईबी, असिस्टेंट कमिश्नर (प्रोविडेंट फंड) और बैंक पी.ओ. भी बड़ी संख्या में इस कोचिंग से निकले हैं. पिछले साल इस कोचिंग से 44 कुल छात्रों ने यूपीएससी क्लीयर किया था. इनमें से एक नाम थर्ड रैंक टॉपर जुनैद अहमद का भी था.

बता दें कि हर साल तकरीबन एक लाख अभ्यर्थी सिविल सेवा प्री लिम्स परीक्षा देते हैं. इनमें से शॉर्ट लिस्ट होकर कुछ हजार लोग मेन्स परीक्षा देते हैं. बता दें कि 2019 में सिविल सर्विस मेंस परीक्षा में 11,845 उम्मीदवारों को शार्टलिस्ट किया गया था. हर वर्ष यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा तीन चरणों -- प्रारंभिक, मुख्य परीक्षा और साक्षात्कार-- में आयोजित की जाती है. इसके जरिए भारतीय प्रशासनिक सेवा (IAS), भारतीय पुलिस सेवा (IPS) और भारतीय विदेश सेवा (IFS) सहित अन्य सेवाओं के लिए चयन किया जाता है_


Reactions