राशन न मिलने को लेकर गांव में कार्ड धारकों का बवाल, सूचना पर पहुंचे पूर्तिनिरीक्षक ने की जांच, DSO को सौपीं Report

अब्दुल मुईद खान, फर्रुखाबाद, Nit. : 
कोविड-19 कोरोना की वैश्विक आपदा के बाद केन्द्र और प्रदेश की सरकारों की ओर से आम आदमी को भूखा मरने से बचाने के लिए नई खाद्यान नीति की की गई घोषणा का व्यापक प्रचार प्रसार न करने से कार्ड धारकों में भ्रम की स्थिति बनी हुई है। जिसे लेकर जिले भर में राशन की दुकानों पर कार्ड धारक मुफ्त गल्ला न मिलने पर बवाल काट रहे है। वहीं अमृतपुर तहसील क्षेत्र की गुर्जरपुर गहलवार की उचित दर विक्रेता द्वारा इस आपदा की घड़ी में भी राशन वितरण शुरु न किये जाने को लेकर कार्ड धारकों ने जमकर बवाल काटा। इसी बीच किसी ने तहसीलदार को खबर कर दी। जिस पर पहुंचे पूर्ति निरीक्षक ने जांच कर अपनी रिपोर्ट जिलापूर्ति अधिकारी को सौपी है। जिससे महीनों से खाद्यान को बाजार दिखा रही महिला कोटेदार पर जिलाधिकारी की घोषणा के अनुसार एफआईआर दर्ज हो सके। 
वैश्विक आपदा कोविड-19 कोरोना को मद्देनजर केन्द्र और राज्य सरकार ने खाद्यान नीति में बदलाव कर इसकी भारी भरकम घोषणा की थी। इस पर कार्ड धारक जिले भर में मुफ्त गल्ला मिलने की उम्मीद में तड़के से ही उचितदर दुकानों पर पहुंच रहे है। ऐसी ही घोषणा पर अमृतपुर तहसील क्षेत्र के गांव गुर्जरपुर गहलवार की कोटेदार राधादेवी के यंहा भी कार्ड धारक खाद्यान लेने पहुंचे। 

कार्ड धारकों का आरोप है कि पिछले दो महीने से खाद्यान को वितरण करने की वजाय बाजार दिखा रही कोटेदार राधादेवी ने जब इस महीने भी ऐसा करने का तानाबाना बुनकर वितरण करने से मनाही की तो कार्ड धारकों ने उचित दर की दुकान पर हंगामा शुरु कर दिया। बताते है कि मामला बढ़ता देख किसी ने इसी बीच तहसीलदार को खबर कर दी। इस पर तहसीलदार के माध्यम से खाद्यान में की जा रही घपलेबाजी का मामला जिला मुख्यालय पर बनाये गये कोविड-19 कोरोना कंट्रोल रुम होता हुआ जिलापूर्ति अधिकारी जीवेश कुमार मोर्य तक पहुंचा। 
मामले की गंभीरता को भांप डीएसओं मोर्य ने पूर्तिनिरीक्षक शरद चन्द्र दुबे को गुर्जरपुर गहलवार रवाना किया। बताते है कि पूर्ति निरीक्षक दुबे ने कार्ड धारकों से लिये गये बयान के आधार पर अपनी जांच रिपोर्ट जिला पूर्ति अधिकारी मोर्य को सौंपी है। जिससे शासन और बीते दिन जिलाधिकारी मानवेन्द्र सिंह की घोषणा के अनुरुप खाद्यान वितरण न करने के लिए जिम्मेदार कोटेदार राधा देवी के खिलाफ सक्षम धारओं में अभियोंग पंजीकृत कराया जा सके।
Reactions