सोनिया गांधी देश की ‘मदर ऑफ कंट्री’ हैं - सलमान खुर्शीद Former External Affairs Minister

नई दिल्‍ली,Nit. :
भारत में कोरोना वायरस के प्रकोप के बीच कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी इन दिनों जहां भारतीय जनता पार्टी पर सीधा हमला कर रही हैं वहीं पूर्व केंद्रीय मंत्री सलमान खुर्शीद ने सोनिया गांधी को देश की मां बताया है।
उन्होंने कहा कि हर चीज का एक संदर्भ होता है। इतना ही नहीं, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने इस बात को भी स्वीकार किया कि पार्टी में सभी लोग सिद्धांतों का पालन करने वाले नहीं हैं।
एक मीडिया हाउस से बातचीत में सलमान खुर्शीद ने ये बात कही।
कांग्रेस नेता सलमान खुर्शीद ने कहा, ‘फिलहाल जो स्थितियां हैं, उन्हें देखते हुए तो जब हम एकसाथ होंगे, तभी लड़ पाएंगे। विवाद की इन दिनों कोई बात नहीं है, चुनाव है नहीं। मानवता की रक्षा करने का समय है। क्या कारण है कि विवादित बातें तलाशकर सामने रखी जा रही हैं।’
सोनिया गांधी को आपने देश की मां बताया?
इस पर सलमान खुर्शीद ने कहा, ‘यह कोई आज की बात नहीं है। कोई संदर्भ रहा होगा, उसमें यह बात कही गई होगी। किसी को भी मां का सम्मान देना बुरी बात है क्या। यह देश उतना ही मेरा है, जितना उनका है, जो कह रहे हैं कि यह बात कहना गलत है। जो देश हमारा है, उसके बारे में जो हम समझते हैं, वह कह रहे हैं। मेरा अधिकार है कि मैं मां मानता हूं।’ उन्होंने कहा, ‘अगर लोग ये बात नहीं मानते हैं, समझते हैं तो दुर्भाग्य की बात है।’
महात्मा गांधी अहिंसा पर यकीन करते थे, शब्दों की मर्यादा बनाए रखने के पक्षधर थे, लेकिन अब पार्टी के कई नेता इसका मखौल उड़ाते हैं। क्यों उन्हें पार्टी से बाहर का रास्ता नहीं दिखाया जाता? इस पर सलमान खुर्शीद ने कहा, ‘किसी भी परिवार का, किसी समूह का, किसी संगठन का, किसी विचारधारा का एक किरदार होता है। आप किसी स्कूल कॉलेज में पढ़ते हैं तो बताया जाता है कि यहां कि यह विशेषता है। मिलिटरी अकादमी से जो निकलकर आते हैं, उनकी अलग खासियत होती है। जो किरदार एक आम व्यक्ति का होता है संगठन में, वह सभी का नहीं होता है।’ तो मैं यह समझूं कि कांग्रेस के अनुशासन का सभी लोग पालन नहीं करते हैं? इस पर खुर्शीद ने कहा, ‘आज के हालात में लोग नहीं करते हैं।’
इन लोगों की वजह से पार्टी की फजीहत हो रही है, फिर भी ऐसे लोगों को ढोया जा रहा है? सलमान खुर्शीद ने कहा, ‘हम पार्टी से निकालते रहे हैं लेकिन दूसरे लोग न निकालें। हमारे राष्ट्र की परंपरा है कि कोई विचारधारा से हटकर बात करता है, जिससे विचारधारा को ठेस पहुंचती है तो उसको हटा देना चाहिए। अगर तत्काल हटा देने की बात होती तो बीजेपी से कितने लोग हटा दिए जाते। एक सामान्य सी बात है कि अगर हम कुछ काम नहीं करते हैं तो क्या घर से निकाल दिया जाता है। सीधी सी बात हम उन्हें सुधारने की कोशिश करते हैं, समझाने का प्रयास करते हैं।’ कब तक प्रयास किया जाएगा? इस पर सलमान खुर्शीद ने कोई सटीक जवाब नहीं दिया।
-एजेंसियां
Reactions