मध्‍य प्रदेश के DGP की चिठ्ठी से हर कोई सकते में, IPS अधिकारियों की असलियत बताई

भोपाल, Nit. :
मध्‍य प्रदेश के DGP विवेक जौहरी की एक चिट्ठी से पुलिस महकमे में खलबली मच गई है, हर कोई सकते में है। DGP की चिट्ठी वायरल होने के बाद पुलिस मुख्यालय में तैनात IPS अधिकारियों की निष्ठा पर सवाल उठ रहे हैं। सवाल यह है कि लाखों रुपये की वेतन पाने वाले IPS अधिकारी कामचोरी कर रहे हैं। DGP ने अपने पत्र में कई गंभीर सवाल उठाए हैं। कई IPS तो बिना ऑफिस आए ही वेतन ले रहे हैं।
DGP विवेक जौहरी ने भोपाल पुलिस मुख्यालय में तैनात 29 सीनियर IPS अधिकारियों को लेकर यह सवाल उठाए हैं। 29 में 14 IPS अधिकारी तो ऐसे हैं, जिन्हें लंच करने में 2 घंटे का वक्त लगता हैं। कुछ अधिकारी तो लंच के बाद ही ऑफिस छोड़कर चले जाते हैं। उसके बाद ऑफिस आते ही नहीं हैं। 3 ऐसे भी IPS अधिकारी हैं जो कभी ऑफिस आते ही नहीं हैं। बिना काम के ही ये सारे अधिकारी सैलरी के साथ-साथ सरकारी सुविधाओं का लाभ ले रहे हैं।
ऑफिस से रहते हैं गायब
डीजीपी ने अपने पत्र में 29 IPS अधिकारियों की कार्यशैली का जिक्र किया है। उन्होंने पाया है कि वर्किंग टाइम में अधिकारी अपने चैंबर से गायब रहते हैं। यहीं नहीं, कई अधिकारी तो लंच के बाद ऑफिस आते ही नहीं हैं। विवेक जौहरी ने 6 जून को चिट्ठी लिख अधिकारियों से काम को महत्व देने को कहा है। साथ ही उन अधिकारियों से कहा है कि वह सुबह 10.30 से शाम 5.30 बजे तक ऑफिस में रहें। DGP ने कहा है कि यह बहुत ही खेद का विषय है कि स्पेशल डीजी, एडीजी और आईजी स्तर के अधिकारी दफ्तर में नहीं होते हैं और न ही फोन रिसीव करते हैं।
29 IPS का है जिक्र
पुलिस मुख्यालय ने 29 अधिकारियों को चिह्नित किया है। इनमें से 3 ऑफिस ही नहीं आते हैं, 12 लंच टाइम के बाद ऑफिस लौटते नहीं हैं और 14 को लंच करने में 2 घंटे का वक्त लगता है। DGP ने अपनी चिट्ठी में ऐसे अधिकारियों के नाम का जिक्र नहीं किया है लेकिन उन्होंने उम्मीद जताई है कि ऐसे अधिकारी भविष्य में समय से ऑफिस में उपलब्ध होंगे। साथ ही उन्होंने यह भी कहा है कि आपके अधीनस्थ कार्यरत लोगों पर भी इसका प्रतिकूल असर पड़ता है।
वहीं, DGP की चिट्ठी सोशल मीडिया पर वायरल है। वायरल चिट्ठी पर डीजीपी विवेक जौहरी ने मीडिया से बात करते हुआ कहा कि मुझे जो बात कहनी थी, वह मैंने पत्र में लिख दी है। मैं इस मामले में अलग से कोई टिप्पणी नहीं करना चाहता हूं।
BSF में डीजी थे जौहरी
विवेक जौहरी की छवि अनुशासन प्रिय अधिकारी के रूप में हैं। एमपी के DGP बनने से पहले वह केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर थे। बीएसएफ में बतौर डीजी कार्यरत थे। कांग्रेस सरकार ने जाने से पहले इनकी नियुक्ति की थी। काम को लेकर जौहरी हमेशा तत्पर रहते हैं।
-एजेंसियां
Reactions