TRP scam में BARC का बड़ा फैसला, न्‍यूज़ चैनलों की साप्‍ताहिक रेटिंग पर रोक


नई दिल्‍ली, Nit. :

TRP को लेकर मचे घमासान के बीच ब्रॉडकास्‍ट ऑडियंस रिसर्च काउंसिल (BARC) ने बड़ा फैसला किया है। टीवी रेटिंग्‍स जारी करने वाली यह संस्‍था फिलहाल न्‍यूज़ चैनलों की साप्‍ताहिक रेटिंग्‍स जारी नहीं करेगी। TRP से छेड़छाड़ का मामला फिलहाल अदालत में है। BARC ने 12 हफ्ते के लिए रेटिंग्‍स न जारी करने का फैसला किया है। नेशनल ब्रॉडकास्‍टर्स एसोसिएशन ने इस कदम का स्‍वागत किया है।

BARC ने प्रस्‍ताव दिया है कि उसकी तकनीकी समिति TRP का डेटा मापने के वर्तमान सिस्‍टम का रिव्‍यू करेगी। उसे और बेहतर किया जाएगा। यह कवायद हिंदी, अंग्रेजी और बिजनेस समाचार चैनलों पर तत्‍काल रूप से लागू की जाएगी। इसमें 8 से 12 हफ्तों का समय लग सकता है।
मुंबई पुलिस का क्‍या है दावा
मुंबई पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया देशभर में अलग-अलग जगहों पर 30 हजार बैरोमीटर (People’s Meter) लगाए गए हैं। मुंबई में इन मीटरों को लगाने का काम हंसा नाम की संस्था ने किया था। मुंबई पुलिस का दावा है कि हंसा के कुछ पुराने वर्कर्स ने जिन घरों में पीपल्स मीटर लगे थे, उनमें से कई घरों में जाकर वे लोगों से कहते थे कि आप 24 घंटे अपना टीवी चालू रखिए और फलां चैनल लगाकर रखिए। इसके लिए वे लोगों को पैसे भी देते थे। मुंबई पुलिस का दावा है कि अनपढ़ लोगों के घरों में भी अंग्रेजी के चैनल को चालू करवाकर रखा जाता था।
रिपब्लिक टीवी पर क्या है आरोप
मुंबई पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने कहा कि यह अपराध है, चीटिंग है। हम इसे रोकने के लिए जांच कर रहे हैं। फॉरेंसिक एक्सपर्ट की मदद ली जा रही है। जो आरोपी पकड़े गए हैं, उसी के आधार पर आगे की कार्यवाही की जाएगी। उन्होंने कहा कि दो छोटे चैनल फख्त मराठी और बॉक्स सिनेमा भी शामिल है। इनके मालिकों को कस्टडी में लिया गया है। हंसा की शिकायत पर केस दर्ज किया गया है। ब्रीच ऑफ ट्रस्ट और धोखाधड़ी का केस दर्ज किया गया है। पुलिस कमिश्नर ने कहा कि रिपब्लिक टीवी में काम करने वाले लोग, प्रमोटर और डायरेक्टर के इस ‘खेल’ में शामिल होने के चांस हैं। आगे की जांच चल रही है। जिन लोगों ने विज्ञापन दिया, उनसे भी पूछताछ की जाएगी कि उन पर कोई दबाव तो नहीं था।
-एजेंसियां
Reactions