बीजेपी के लोग जात-पात के नाम पर झूठी राजनीति करके नफरत फैलाते हैं : Akhilesh Yadav

इटावा,Nit : 
इटावा में उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के बीजेपी के खिलाफ कड़े तेवर देखने को मिले।

एक तरफ जहां गणतंत्र दिवस के अवसर पर पूरा दिन दिल्ली में अराजकता फैली हुई थी वहीं दूसरी ओर अखिलेश यादव ने लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि ” देश की सरकार ने किसानों का डेथ वारंट बिना बहुमत के पास कर दिया है। जिसका विरोध देश के किसान कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि बीजेपी वाले आंख कान बंद किए हुए हैं। एक तरफ तो सरकार दावा कर रही है कि किसानों का धान 1868 रुपए प्रति क्विंटल खरीदा गया, जबकि किसानों को अपना धान 900, 1000 और 1100 रुपए प्रति क्विंटल बेचना पड़ा है।

अपने संबोधन में अखिलेश यादव ने कहा कि “कोरोना महामारी में लोगों को नाक और मुंह बंद करना पड़ा, लेकिन पता नहीं बीजेपी को कौन सी बीमारी आई है, जिससे ये लोग आंख और कान बंद किए हुए हैं। बीजेपी के लोग झूठी राजनीति करके नफरत फैलाते हैं। जात-धर्म के नाम पर राजनीति करते हैं। उन्होंने कहा कि यूपी के सीएम कह रहे हैं कि प्रदेश में 14 करोड़ लोगों को नौकरी दे दी गई, लेकिन मुख्यमंत्री इटावा ,सैफई, मैनपुरी और फिरोजाबाद के लोगों से नफरत करते हैं। यूपी में उनकी कार्रवाई देखकर हमें नहीं लगता कि वो योगी हैं। अखिलेश यादव ने कहा कि बाबा मुख्यमंत्री लैपटॉप नहीं चला पाते, इसलिए उन्होंने लैपटॉप नहीं बांटे। ये लोग झूठ बोलकर राजनीति करने वाले लोग हैं, इनसे अच्छा झूठ कोई नहीं बोल सकता।

आपको बता दें कि किसान सरकार द्वारा लाए गए कृषि कानूनों का विरोध कर रहें हैं तथा उन्हें वापस लेने की मांग कर रहे है।जबकि सरकार अपनी बात पर अड़ी हुई है।किसान और सरकार के बीच तनाव बढ़ता ही जा रहा है। किसानों के साथ-साथ विपक्ष भी किसानों की तरफ से लगातार सरकार पर निशाना साध रहा है।
Reactions