Kanpur Central स्टेशन पर ट्रेन की पैंट्री कार में मिला 1 करोड़ 40 लाख रुपए से भरा बैग

कानुपर, Nit. :
नई दिल्ली से बिहार जा रही स्वतंत्रता संग्राम सेनानी एक्सप्रेस (02562) की पैंट्री कार में उत्तर प्रदेश के कानपुर सेंट्रल स्टेशन पर नोटों से भरा बैग मिला। इसमें दो हजार और पांच सौ के नोटों की गड्डियां मिली हैं। जीआरपी व आरपीएफ के उच्चाधिकारियों के निर्देश के बाद की गई नोटों की गिनती में लावारिस मिले बैग में एक करोड़ 40 लाख रुपए की नकदी पाई गई है। रेलवे प्रशासन ने बैग जीआरपी को सौंपते हुए इनकम टैक्स को इसकी जानकारी दे दी है।

मिली जानकारी के अनुसार नई दिल्ली से जयनगर जाने वाली स्वतंत्रता संग्राम सेनानी कोविड स्पेशल ट्रेन नई दिल्ली से चलकर देर रात कानपुर सेंट्रल पहुंची थी, इस दौरान पैंट्रीकार में मौजूद कर्मचारियों ने रेलवे कर्मचारियों को ट्रेन के अंदर लाल रंग के लावारिस बैग पड़े होने की सूचना दी।

सूचना पर रेलवे कर्मचारियों के साथ जीआरपी और आरपीएफ की संयुक्त टीम ट्रेन के अंदर पहुंची और लावारिस बैक की स्कैनिंग करने के बाद जीआरपी ने लावारिस बैग को कब्जे में लेते हुए सेंट्रल स्टेशन पर खड़ी स्वतंत्रता संग्राम सेनानी कोविड स्पेशल ट्रेन को जयनगर के लिए रवाना कर दिया।

3 घंटे चली नोटों की गिनती
जीआरपी और आरपीएफ के कर्मियों ने अपने उच्चाधिकारियों के निर्देश पर नोटों की गिनती शुरू की जो सवा 12 बजे तक चली। तीन घंटे तक हाथ से नोटों की गिनती के बाद बैग में से एक करोड़ 40 रुपये पाए गए। 1.25 करोड़ रुपए 5-5 सौ के नोट में हैं जिसकी 250 गड्डियां हैं। इसी तरह 12 लाख रुपए दो-दो हजार रुपये के नोट में हैं, जिनकी छह गड्डियां हैं। दो-दो सौ के नोट की पांच गड्डियों में एक लाख रुपए हैं। सौ-सौ नोटों के 20 गड्डियों में दो लाख रुपए हैं।

क्या बोले अधिकारी
डिप्टी सीटीएम हिमांशु कुमार उपाध्याय ने बताया कि ट्रेन में एक लावारिस बैग मिला था जिससे जीआरपी, आरपीएफ की मौजूदगी में जब खोला गया तो बैग नोटों से भरा हुआ था। नियमानुसार कार्यवाही करते हुए बैग को जीआरपी के हवाले कर दिया गया है और इनकम टैक्स डिपार्टमेंट को इसकी सूचना दे दी गई है।

आशंका जताई जा रही है कि ये रुपये पंचायत चुनाव में खपाने के लिए जाए जा रहे थे। हवाला के भी रुपये होने से इंकार नहीं किया जा सकता। बैग अभी जीआरपी की कस्टडी में है। ट्रेन सोमवार देर रात 2:51 बजे कानपुर सेंट्रल पहुंची थीं।मंगलवार रात को उत्तर मध्य रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी अजीत कुमार सिंह ने इस घटना की पुष्टि करते हुए बताया कि नोटों से भरा बैग मिला है। नोट गिने नहीं गए हैं लेकिन अंदाजा है कि ये एक करोड़ से अधिक हैं।

वहीं जीआरपी इंस्पेक्टर राम मोहन राय ने बताया कि गड्डी को देखते हुए 1.40 करोड़ रुपये होने का अनुमान है। आयकर विभाग को सूचित किया गया है। बुधवार को बैग को आयकर विभाग के सुपुर्द किया जाएगा। सभी सीटें आरक्षित हैं लिहाजा जनरल श्रेणी में भी चलने वाले यात्रियों को रिकॉर्ड है।

पंचायती चुनाव में हो सकता था इस्तेमाल
किसी ने भी नोटों से भरे बैग पर दावा नहीं किया है। हालांकि पैंट्री कार से बैग का मिलना सवाल भी खड़े करता है। पंचायत चुनाव करीब हैं और दिल्ली से यह नोटों से भरा बैग आ रहा था। इस पर भी लोग सशंकित हैं। चुनाव के पहले वाहनों में कैश बरामद होने की घटनाएं सामने आती रही हैं लेकिन ट्रेन में नोटों से भरा बैग मिलना सवाल खड़े करता है। इसमें किसी स्टाफ की भूमिका है या नहीं। इस बात की जांच भी होगी।

-एजेंसियां
Reactions