Red Fort Violence: दीप सिद्धू ने किया खुलासा, बिहार के रास्ते नेपाल जाने की थी उसकी तैयारी

नई दिल्ली, Nit. :
आरोपी दीप सिद्धू ने खुलासा (Deep Singh Sidhu arrested) किया है कि वह पकड़े जाने के डर से 26 जनवरी की रात सिंघु बॉर्डर होते हुए सबसे पहले सोनीपत पहुंचा था। इसे सुखदेव ढाबे के पास आखिरी बार सीसीटीवी फुटेज में देखा गया था। वह पंजाब, हिमाचल प्रदेश समेत कई राज्यों में छिपकर रहा। सिद्धू को सोमवार रात उस वक्त दबोचा गया जब वह करनाल गोल्डन हट ढाबे के पास ट्रैक्टर से उतर एसयूवी के आने का इंतजार कर रहा था।

26 जनवरी (26 January violence) के बाद से ही सिद्धू, उसकी पत्नी और करीबी लोगों के मोबाइल नंबरों को पुलिस ने सर्विलांस पर ले रखा था। अंदेशा है कि सिद्धू बिहार के रास्ते नेपाल भागना चाहता था। स्पेशल सेल को जब इसके करनाल के पास आने का इनपुट मिला तो उसे वहां ट्रैप लगाकर दबोच लिया गया। सिद्धू ने बताया है कि लॉकडाउन के बाद से उसके पास कोई काम नहीं था। 28 नवंबर को वह दिल्ली आया था।

इधर, गिरफ्तारी के बाद मंगलवार सुबह से ही आरोपी के समर्थन में सोशल मीडिया पर तरह-तरह की प्रतिक्रियाएं आने लगीं। कैलिफोर्निया नाम के ट्विटर अकाउंट समेत कई अकाउंट से उसे रिहा करने की मांग उठने लगी। सिद्धू किसान आंदोलन में लगातार एक्टिव था। कुछ दिन पहले उसे 'सिख फॉर जस्टिस' (एसएफजे) के साथ रिश्तों को लेकर एनआईए ने नोटिस भी जारी किया था।

बता दें कि 26 जनवरी की हिंसा में आरोपी दीप सिद्धू का नाम झंडा फहराने और भीड़ को भड़काने के लिए मुकदमे में दर्ज है। इसके बाद से वह फरार था। पुलिस का कहना है कि 26 जनवरी की घटना के बाद से सिद्धू को नहीं देखा गया था। हालांकि उसके वीडियो लगातार आ रहे थे। पिछले दिनों उसका एक वीडियो सामने आया। पुलिस ने जांच की तो पता चला कि आरोपी वीडियो पोस्ट करने के लिए अपनी गर्लफ्रैंड और उसके मोबाइल फ़ोन का इस्तेमाल कर रहा है। उसका फेसबुक आईडी कई मोबाइल फ़ोन में खुला हुआ था। पता चला कि वह वीडियो बनाकर पहले उसे वॉट्सऐप से कैलिफोर्निया में अपनी गर्लफ्रैंड को भेजता था और उसके बाद उसकी गर्लफ्रैंड के मोबाइल से उसे पोस्ट किया जाता था।

मंगलवार तड़के गिरफ्तरा के समय वह अपनी छिपने की जगह बदल रहा था, लेकिन उसके छिपने से पहले ही सेल की साउथ वेस्टर्न रेंज की टीम ने उसे पकड़ लिया। फिलहाल, उससे आगे की पूछताछ की जा रही है। यह भी माना जा रहा है कि उसको छिपने में जिसने मदद की होगी, बाकी लोगों को भी उसने ही छिपाया होगा। इसके बाद कई और गिरफ्तारियां हो सकती हैं।
Reactions