Jamia 'आत्मनिर्भर भारत के लिए शिक्षा, शोध और कौशल विकास' वेबिनार में शामिल हुआ

 
नई दिल्ली, Nit. : 3 मार्च. 2021 को जामिया मिल्लिया इस्लामिया, 'आत्मनिर्भर भारत के लिए शिक्षा, शोध और कौशल विकास' पर एक वेबिनार का हिस्सा बना, जिसे शिक्षा मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा आयोजित किया गया था। 

भारत के माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने वेबिनार में उद्घाटन भाषण दिया। जिसमें उन्होंने नई शिक्षा नीति 2020 और नए बजट के बारे में बात की, जो नीति के कार्यान्वयन में उपयोगी साबित होगा| उन्होंने शिक्षाविदों से भारतीय भाषाओं में मेडिकल, इंजीनियरिंग, प्रौद्योगिकी की सामग्री तैयार करने की जिम्मेदारी लेने का भी आग्रह किया ताकि अनुसंधान और कौशल विकास को एक नई दिशा दी जा सके। उन्होंने आगे कहा कि देश में प्रतिभा की कोई कमी नहीं है और भाषा के कारण प्रतिभा को निराश नहीं होने दिया जा सकता है। 

प्रो नजमा अख्तर, कुलपति, जामिया मिल्लिया इस्लामिया, डॉ नाज़िम हुसैन अल-जाफरी, रजिस्ट्रार, जामिया मिल्लिया इस्लामिया और अन्य संकाय सदस्य एवं अधिकारी वेबिनार का हिस्सा बने। वेबिनार में शामिल होने के लिए जामिया मिल्लिया इस्लामिया के एफटीके-सीआईटी केंद्र ने व्यवस्था की थी।  

माननीय प्रधानमंत्री के आह्वान पर जामिया के शिक्षकों ने मेडिकल, इंजीनियरिंग एवं दूसरे तकनीकी क्षेत्रों में देशी भाषाओं में कंटेंट तैयार करने की दिशा में गंभीरता से कार्य करने का प्रण लिया। 
वेबिनार को छह समानांतर सत्रों के साथ डिजाइन किया गया था । माननीय शिक्षा मंत्री श्री रमेश पोखरियाल 'निशंक' ने समापन वक्तव्य दिया जिसमें उन्होंने राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 के लिए आत्मानिभर भारत, स्वच्छ भारत, श्रेष्ठ भारत के बारे में बात की। उन्होंने मातृभाषा के माध्यम से शिक्षा पर भी जोर दिया। माननीय शिक्षा राज्य मंत्री श्री संजय धोत्रे ने समापन और धन्यवाद ज्ञापन किया।

अहमद अज़ीम
पीआरओ-मीडिया समन्वयक
Reactions