Trainee plane: यमुना एक्सप्रेस-वे पर हुई प्राइवेट ट्रेनी प्लेन की इमरजेंसी लैंडिंग

मथुरा, Nit. : उत्तर प्रदेश के मथुरा में यमुना एक्सप्रेस-वे पर गुरुवार को एक प्राइवेट ट्रेनी प्लेन की आपातकालीन लैंडिंग कराई गई। दो सीट वाले विमान में किसी तरह की तकनीकी खराबी आ गई थी। इसके बाद यमुना एक्सप्रेसवे पर प्लेन के पायलट जागृत ने इसकी सकुशल लैंडिंग कराई। लैंडिंग के दौरान प्लेन में दो लोग सवार थे। विमान ने अलीगढ़ से हरियाणा के लिए उड़ान भरी। खराबी के बाद यमुना एक्सप्रेसवे पुल नंबर 72 पर इसकी लैंडिंग कराई गई।

यमुना एक्सप्रेस-वे पर टू-सीटर ग्लाइडर की इमरजेंसी लैंडिंग कराई गई। विमान के दोनों पायलट सुरक्षित है। घटना की जानकारी मिलते ही मथुरा और स्थानीय पुलिस मौके पर पहुंची। यमुना एक्सप्रेस-वे पर स्थित जेवर टोल प्लाजा से 10 किलोमीटर की दूरी पर गुरुवार दोपहर करीब 1 बजे तकनीकी खराबी के चलते एक ग्लाइडर विमान की इमरजेंसी लैंडिंग की गई। इस लैंडिंग के दौरान कोई नुकसान नहीं हुआ और दोनों पायलट भी सुरक्षित हैं। नारनौल से अलीगढ़ जाते वक्त यमुना एक्सप्रेस-वे जेवर टोल से 10 किलोमीटर पहले ग्लाइडर की इमरजेंसी लैंडिंग कराई गई है।

खास है यमुना एक्सप्रेसवे:-
यमुना एक्सप्रेसवे पर इससे पहले लड़ाकू विमान उतारे जा चुके हैं। दरअसल, यह पूरा एक्सप्रेसवे सीमेंट और कंकरीट से बना है। इसका आधार भी इतना मजबूत है कि यह एक ही स्थान पर 20 टन से ज्यादा का दबाव सह सकता है, जबकि लड़ाकू विमान का वजन इसके आधे से भी कम होता है।

यह एक के बाद एक कई विमानों का दबाव सहने की स्थिति में है। इसके अलावा यह एक्सप्रेसवे दोनों तरफ से कटीले तार से घिरा हुआ है। इससे किसी जानवर या अन्य के अचानक सड़क पर आने की संभावना भी नहीं है।

विमानों की लैंडिंग के लिए जो सबसे अहम होता है, वह रनवे का समतल और अवरोधविहीन होना। यमुना एक्सप्रेसवे इस मायने में भी खरा है। टोल प्लाजा वाले स्थानों को छोड़कर लंबी दूरी तक यह समतल है। इससे जमीन पर उतरने के बाद विमान असंतुलित नहीं हो सकता।
Reactions