UP Ambulance: नए कर्मचारियों की शुरू हुई अस्थाई भर्ती, 16 एंबुलेंस दौड़ी

फर्रुखाबाद, N.I.T. : विभिन्न मांगों को लेकर हड़ताल पर गए एंबुलेंस कर्मचारियों की नौकरी पर तलवार लटकने लगी है। इसी को लेकर संस्था के निर्देश पर जनपद स्तर पर अस्थाई भर्ती प्रक्रिया शुरू कर दी गई। पहले 70 लोग नौकरी पाने को पहुंचे। गुरुवार से 16 एंबुलेंस दौड़ने लगीं हैं।

चार दिन से 102 व 108 एंबुलेंस कर्मचारी हड़ताल पर चल रहे हैं। मरीजों की सहूलियत के लिए प्रशासन ने कर्मचारियों से एंबुलेंस की चाबी ले ली थीं। इसके बाद कर्मचारी प्रदर्शन करने के लिए लखनऊ रवाना हो गए। गुरुवार को एंबुलेंस के संचालन के लिए अस्थाई भर्ती शुरू की गई। 450 रुपये प्रतिदिन के हिसाब से लोगों को रखा जा रहा है। अगर काम ठीक पाया गया तो संबंधित कर्मचारी को नियमित कर दिया जाएगा और इनके प्रशिक्षण की व्यवस्था की जाएगी। पहले दिन 70 लोग नौकरी पाने को लोहिया अस्पताल परिसर में बनाए गए एंबुलेंस कार्यालय पहुंचे। यहां पर सिटी मजिस्ट्रेट अशोक मौर्य ने नौकरी के लिए आए लोगों से कहा कि घबराने की जरूरत नहीं है, प्रशासन आप लोगों के साथ है। एंबुलेंस के जिला प्रभारी सौरभ चौहान ने बताया कि कुछ कर्मचारी ऐसे हैं, जिन्हें ड्यूटी नहीं मिल पा रही थी, कुछ नए लोग हैं। इन लोगों को अभी अस्थाई रूप से रखा जा रहा है। गुरुवार को 16 एंबुलेंस का संचालन शुरू करा दिया गया है। एक दो दिन में सभी एंबुलेंस का संचालन शुरू हो जाएगा।

108 पर काल कर परखी व्यवस्था:-
सिटी मजिस्ट्रेट अशोक मौर्य ने 108 पर काल कर व्यवस्था परखी। सिटी मजिस्ट्रेट ने बताया कि अब काल करने पर फोन रिसीव किया गया। जरूरतमंद लोग एंबुलेंस की सेवा लेने के लिए 108 पर काल करें।

कर्मचारियों के आवास खाली कराने के आदेश:-
मुख्य चिकित्साधिकारी डा. सतीश चंद्रा ने सभी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र प्रभारियों को एंबुलेंस कर्मचारियों के आवास खाली कराने के आदेश दिए हैं। उन्होंने बताया कि पुलिस के सहयोग से आवासों को खाली कराया जाएगा।

एंबुलेंस की सुरक्षा में तैनात किए गए पुलिस कर्मी:-
हड़ताल पर जाने पर कर्मचारियों ने सभी एंबुलेंस लोहिया अस्पताल परिसर में खड़ी करा दी थी। एंबुलेंस की चाबी लेने के बाद पुलिस कर्मियों को सुरक्षा व्यवस्था के लिए तैनात किया गया है। ताकि हड़ताल पर गए कर्मचारी गाड़ियों को क्षतिग्रस्त न कर सकें।

डग्गामारी नहीं करनी है, मरीजों को लाना होगा:-
एंबुलेंस के जिला प्रभारी सौरभ चौहान ने रखे गए कर्मचारियों से कहा कि एंबुलेंस से डग्गामारी नहीं करनी है। कॉल मिलने पर मरीजों को संबंधित सरकारी अस्पताल में भर्ती कराना होगा। अगर डग्गामारी की शिकायत मिली तो तत्काल प्रभाव से सेवाएं समाप्त कर दी जाएंगी।
Reactions