Agra: ताजमहल से पांच किमी दूर 300 परिवारों ने अपने घरों पर 'मकान बिकाऊ है' के पोस्टर लगाएं, दी पलायन की चेतावनी

आगरा, N.I.T. : आगरा में टूटी सड़कों, गड्ढों, जलभराव की समस्या से त्रस्त होकर शमसाबाद रोड की कॉलोनियों के 300 परिवारों ने अपने घर बेचकर पलायन की तैयारी कर ली है। रश्मि विहार, गौरव एन्क्लेव समेत कॉलोनियों के लोगों ने अपने घरों पर 'मकान बिकाऊ है' के पोस्टर लगा दिए हैं। शुक्रवार को इन कॉलोनियों के लोगों ने विरोध प्रदर्शन किया और विधानसभा चुनाव में मतदान का बहिष्कार करने की चेतावनी दी है।

ताजमहल से केवल पांच किमी दूर शमसाबाद रोड की कॉलोनियों रश्मि विहार, गौरव एन्क्लेव में सड़कों पर जलभराव और जलभराव की वजह से हुए गड्ढों के कारण पैदल निकलना भी मुश्किल है। इन कॉलोनियों में 300 से ज्यादा घरों के लोग अपने मकान बेचकर दूसरी जगह जाने की तैयारी में हैं। 
इन कॉलोनियों के लोगों का कहना है कि तीन साल से वह जनप्रतिनिधियों के चक्कर काट-काटकर परेशान हैं, लेकिन सड़क, जलभराव, नालियां, सफाई की उनकी समस्या दूर नहीं की गई। शुक्रवार को क्षेत्रीय लोगों ने हाथों में पोस्टर लेकर प्रदर्शन किया और मकान बिकाऊ है के पोस्टर लगाए।

'कोई और विकल्प नहीं'
गौरव एन्क्लेव के जगमोहन वर्मा ने कहा कि हम जनप्रतिनिधियों के पास जाकर सड़क निर्माण की मांग कर चुके हैं, लेकिन किसी ने समस्या का निदान नहीं किया। मकान बेचने के अलावा और कोई विकल्प नहीं रहा।
'मतदान का करेंगे बहिष्कार'
स्थानीय निवासी अनिल दौनेरिया ने कहा कि अगले चुनाव में हम किसी भी दल को वोट नहीं देंगे। मतदान का बहिष्कार करेंगे या फिर नोटा का बटन दबाएंगे, जब कोई जनप्रतिनिधि समस्या दूर नहीं करता तो वोट क्यों दें।
'पैदल निकलना भी मुश्किल'
स्थानीय निवासी पवन गुप्ता ने कहा कि जलभराव और टूटी सड़कों से पैदल निकलना तक मुश्किल है। बच्चे कॉलोनी में न खेल पाते हैं और न ही हम लोग दो पहिया वाहन से निकल सकते हैं। हर समय गिरने का खतरा रहता है।
'सड़कें सुधारना याद नहीं'
स्थानीय निवासी मुकेश गोला ने कहा कि क्षेत्र में तीन स्कूल है, लेकिन सड़कों की हालत सुधारने की न पार्षद को याद है और नही विधायक को। बार-बार गुहार लगाकर थक चुके हैं, इसलिए मकान बेचकर कहीं और खरीदेंगे।
Reactions