Kaimganj CHC: कायमगंज अस्पताल का नोडल अधिकारी ने किया निरीक्षण, मिली खामियां

फर्रुखाबाद (कायमगंज) N.I.T. : अपर मुख्य सचिव नोडल अधिकारी आराधना शुक्ला ने आज प्रशासनिक अमले के साथ कायमगंज पहुंचकर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र का निरीक्षण किया जहां उन्हें इमरजेंसी वार्ड सहित हर पटल तथा कक्ष में अनियमितताओं की भरमार मिली।

यहां आते ही सबसे पहले वह इमरजेंसी वार्ड में पहुंची। जहां 30 शैयाओं के स्थान पर मात्र 5 बेड ही मिले। पूछे जाने पर अस्पताल अधीक्षक तथा सीएमओ कोई जवाब नहीं दे सके। यहां से नोडल अधिकारी श्रीमती शुक्ला सीधे डेंगू वार्ड पहुंची। उनके आने की सूचना मिलने पर मात्र एक घंटा पहले ही यह वार्ड बनाया गया था।

उन्होंने देखा कि इस कक्ष के खिड़की, दरवाजों, दीवारों तथा शीशों पर मकड़ी का जाला लगा है।पूरे कक्ष में धूल जमी हुई थी। यह देखते ही उन्होंने एक बार फिर मुख्य चिकित्सा अधिकारी तथा अस्पताल अधीक्षक की ओर देखकर कहा कि देख रहे हो यह क्या हाल है। नोडल अधिकारी ने दवा वितरण कक्ष निरीक्षण के दौरान वहां लगी दवाइयों की लिस्ट पर नजर डाली और पूछा कि लिस्ट में जो दवाइयां अंकित हैं। क्या यह सब वितरण कक्ष में हैं। इस पर कोई सही उत्तर नहीं दे सका।सीएमओ तथा अधीक्षक चेहरा लटकाए बगले झांकते हुए दिखाई दिए।

इस पर उन्होंने स्टाक रजिस्टर मंगवा कर चेक किया। जिसमें 200 इंजेक्शन अस्थमा रोग के दर्ज थे। पूछने पर बताया कि सभी प्रयोग में लाए जा चुके हैं। किंतु प्रयोग रजिस्टर में उपयोग में लाए गए इंजेक्शनो का कोई विवरण नहीं मिला। नोडल अधिकारी ने अन्य दवाइयों तथा एंटीबायोटिक इंजेक्शन आदि जांच के लिए रजिस्टर तलब कर जानकारी ली। किंतु इस अस्पताल में उन्हें दवाइयों के स्टाक व प्रयोग एवं अवशेष स्टाक का सही आंकलन कोई भी जिम्मेदार नहीं करा सका। नोडल अधिकारी ने इस घोर अनियमितता का वीडियो बनवाया। इसके तुरंत बाद उन्होंने महिला वार्ड का निरीक्षण किया। यहां उन्होंने स्टॉक रजिस्टर सहित अन्य अभिलेखों को देखा तथा भर्ती मरीजों से बात की। यहां भर्ती प्रसूता चांदनी निवासी हजरतपुर तथा गांव अमरापुर की अनीता पत्नी अरविंद से भोजन फल व दूध के बारे में पूछे जाने पर इन प्रसूताओं ने कहा कि उन्हें केवल रोटी दाल ही मिली है। फल या दूध नहीं दिया गया। यहां से वह जब नगर पालिका परिषद द्वारा पहले से तैयार किए गए वार्ड नंबर 4 का निरीक्षण करने के लिए निकली तो उन्होंने मीडिया द्वारा पूछे गए प्रश्नों के उत्तर में यह माना कि इस अस्पताल में गंदगी के साथ ही और बहुत सी अनियमितताएं हैं। 
उनका ध्यान जब नगरपालिका के वार्ड नंबर 4 की जगह दूसरे किसी वार्ड का निरीक्षण करने की ओर दिलाते हुए बताया गया कि हर बार जो भी अधिकारी आता है उसे पहले से ही तैयार किया गया वार्ड 4 ही दिखाया जाता है। इस पर उन्होंने इस वार्ड की बजाए दूसरे वार्ड का निरीक्षण करने की बात कह कर वहां नहीं गई। 

जब वह दूसरे बार्ड में पहुंची तो वहां गंदगी सफाई का अभाव पानी सोलर लाइट, स्ट्रीट लाइट आदि कई कमियां मिली। निरीक्षण के समय नोडल अधिकारी के साथ जिलाधिकारी मानवेंद्र सिंह, मुख्य विकास अधिकारी अरुण मौली, एसडीएम कायमगंज व सदर तथा मुख्य विकास अधिकारी डॉ सतीश चंद्रा साथ रहे। नोडल अधिकारी ने अस्पताल के बाद अपना काफिला नगर के वार्ड नंबर 7 मोहल्ला नई बस्ती की ओर मुड़वा दिया।

इसके बाद नई बस्ती पहुंचते ही वह अपनी गाड़ी से नीचे उतर गई और पैदल ही मोहल्ले में घूम कर साफ सफाई पानी बिजली आदि की जानकारी मोहल्ले वासियों से ली। इस पर उन्हें लोगों ने बताया की साफ-सफाई तो होती है लेकिन मच्छर बहुत है इसके लिए कोई छिड़काव नगर पालिका द्वारा नहीं कराया जाता है। इस पर उन्होंने कड़ी नाराजगी जताते हुए फॉकिंग कराने की बात कही इसके बाद उनका काफिला अपने गंतव्य की ओर रवाना हो गया।
Reactions