Kaimganj CHC: सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में नहीं हो रही खून की जांच, बढ़ रहें डेंगू बुखार के मरीज

फर्रुखाबाद/कायमगंज, N.I.T. : सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र कायमगंज में आज से तीन-चार दिन पहले तक डेंगू बुखार के उपचार हेतु कोरी कागजी खाना पूरी करके डेंगू वार्ड स्थापित होना बताया जाता रहा। किंतु जब इसकी पोल मीडिया ने खोलना शुरू कर दी तब कहीं जाकर दो कमरों वाला डेंगू वार्ड अस्तित्व में आ सका। किंतु आज भी इस सरकारी अस्पताल में यहां के जिम्मेदार अस्पताल अधीक्षक ने लैव होते हुए भी तेज बुखार से पीड़ित यहां आने वाले मरीजों को खून की जांच कराने की सुविधा उपलब्ध नहीं कराई है। परिणाम स्वरूप हर एक पीड़ित मरीज अस्पताल के इर्द-गिर्द प्राइवेट रूप से काम करने वाली लेैवो से ही खून की जांच कराने के लिए मजबूर होता दिखाइए दे रहा है।

सीएचसी में आए डेंगू पीड़ित इलमा(9)पुत्री जुबेर सधवाडा  कायमगंज, फिरोज (20) पुत्र मुईनअंसारी, लालाराम(65) पुत्र सुखलाल इजौर, रुबीना बेगम(50)पत्नी शवीखान, अर्पित कुमार (18)पुत्र इतवारी लाल बराविकू, फर्लिन पुत्र सोहेल जैसे अन्य मरीजों को भी जिनका उपचार यहां किया गया या फिर उन्हें रेफर कर दिया गया हो, सभी पीड़ितों को खून की जांच कराने के लिए अस्पताल लैब की सुविधा उपलब्ध नहीं कराई गयी। इन सभी को बाहर से ही खून की जांच रिपोर्ट आने पर डेंगू पीड़ित माना गया। इतना ही नहीं स्वास्थ्य विभाग के जिम्मेदारों की लापरवाही एवं धन लोलुप्ता के ही कारण नगर तथा इसके आसपास वाले हर सड़क मार्ग पर झोलाछाप डेंगू सहित अन्य बीमारियों का उपचार करके लोगों के जीवन से खुला खिलवाड़ कर रहे हैं। फिर भी जिम्मेदार अधिकारी तथा प्रशासन ऐसे झोलाछापों पर लगातार मेहरबान बना हुआ है।
Reactions