Kampil news: कम्पिल चेयरमैन ने ग्राम प्रधान को बंदूक की बटों डंडो तथा लात घूंसों से पीटकर किया लहूलुहान

फर्रुखाबाद (कम्पिल) N.I.T. : यह सनसनीखेज घटना थाना कम्पिल परिसर से बमुश्किल 50 कदम दूरी पर स्थित टाउन एरिया अध्यक्ष उदय पाल सिंह यादव के आवास पर घटित होना बताई जा रही है। जहां वर्तमान ग्राम प्रधान भागीपुर उमराह वीरेंद्र सिंह उर्फ मन्नें (50) पुत्र सीताराम को रायफिल बंदूक की बटों डंडो तथा लात घूंसों से पीटकर लहूलुहान कर दिया गया। घायल ग्राम प्रधान के भतीजे प्रवीण कुमार यादव ने बताया की ग्राम पंचायत के चुनाव में वीरेंद्र सिंह चुनाव जीत गए थे। जबकि प्रतिद्वंदी प्रत्याशी शिवकुमार उर्फ सुधीर यादव चुनाव हार गए थे। उसके अनुसार शिवकुमार, उदयपाल पक्ष के होने के कारण पराजय को इन लोगों ने अपनी प्रतिष्ठा से जोड़ लिया और आए दिन कुछ न कुछ झगड़ा फसाद करने का प्रयास करते रहते हैं। 

उसके अनुसार आज उदयपाल ने उसके चाचा ग्राम प्रधान वीरेंद्र को मेरे गांव भागीपुर उमराह खबर देकर कम्पिल बुलवाया था। प्रधान कम्पिल आ रहे थे। जैसे ही वह थाना परिसर के निकट बने उदय पाल के आवास के सामने पहुंचे वैसे ही उन्हें देखा और उदयपाल ने आवाज देकर अपने घर पर बुला लिया। जहां पहले से मौजूद उनके भाई नीलेश यादव सदस्य जिला पंचायत तथा रीतेश यादव एवं मेरे गांव के पराजित प्रत्याशी शिवकुमार पुत्र बालिस्टर सिंह तथा इनका भाई ऋषि देव सिंह एवं सौरभ पुत्र ऋषिदेव सिंह इन सभी 6 लोगों ने ग्राम प्रधान को गाली गलौज करते हुए बंधक बना लिया और इसी के साथ रायफल, बंदूक लात घूंसा तथा लाठी-डंडों से बड़ी बेरहमी के साथ मारपीट कर मरणासन्न कर दिया। 
बताया जा रहा है कि जिस समय ग्राम प्रधान को बंधक बनाकर पीटा जा रहा था। उसी समय एक अजीब सी चीख-पुकार सुनकर सड़क मार्ग से जा रहे लोगों तथा दुकानदारों और मोहल्ले वासियों की काफी भीड़ चेयरमैन उदयपाल के आवास के सामने जमा हो गई। किसी ने भागकर घटना की सूचना निकट स्थित थाना पुलिस को दी। काफी हीला हवाली के बाद किसी तरह मौके पर पहुंची पुलिस ने अन्य लोगों की सहायता से घायल तड़प रहे ग्राम प्रधान को उनके चंगुल से छुड़ाया। इसकी सूचना गांव भागीपुर उमराह पहुंचते ही ग्राम प्रधान के पक्ष तथा परिवार के काफी संख्या में ग्रामीण कम्पिल पहुंच गए। 
दो घंटे तक लहूलुहान हालत में पड़े रहे ग्राम प्रधान के मामले को पुलिस अनसुना और अनदेखा सा करती रही। जब कम्पिल तथा आसपास के लोगों की भीड़ ने थाना गेट तथा परिसर में हंगामा किया। तब कहीं जाकर घायल को मजरूबी चिट्ठी देकर कायमगंज नगर के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र भिजवाया। 
यह घटना जहां एक ओर थाना कम्पिल पुलिस की लापरवाही तथा कानून व्यवस्था के प्रति गैर जिम्मेदारी का उदाहरण बताई जा रही है। वहीं क्षेत्रीय लोगों में पुलिस के प्रति अविश्वास की भावना भी पनपती जा रही है। भीड़ में से बहुत से लोग आरोप लगाते हुए कह रहे थे कि पुलिस को तो इन्हीं लोगों के माध्यम से हर मामले में रुपया कमाने को मिल रहा है। तो फिर पुलिस आखिर क्यों सुनेगी। फिलहाल अस्पताल गए ग्राम प्रधान की हालत  बिगड़ती देख ड्यूटी पर मौजूद चिकित्सक ने उन्हें डॉ राम मनोहर लोहिया अस्पताल फर्रुखाबाद के लिए रेफर कर दिया। घटना के बाद से ही क्षेत्र में तनावपूर्ण स्थित बनी हुई है।

रिपोर्टर आमिर खान
Reactions