Bulandshahr Crime: रालोद नेता हाजी यूनुस के काफिले पर ताबड़तोड़ फायरिंग से सनसनी, 1 की मौत 4 घायल

बुलंदशहर, N.I.T. : बुलंदशहर में कल रविवार को रालोद नेता व पूर्व ब्लॉक प्रमुख हाजी यूनुस के काफिले पर कार सवार हमलावरों ने दिन दहाड़े ताबड़तोड़ फायरिंग की, गोली मारकर हाजी यूनुस के एक समर्थक की हत्या कर दी गई जबकि 4 समर्थक गोली लगने से घायल हुए हैं। घायलों को हायर मेडिकल सेंटर के लिए रेफर कर दिया गया है। वारदात के बाद इलाके में हड़कंप समर्थकों का जमावड़ा शुरू हो गया है। हाजी यूनुस ने जेल में बंद अपने ही भतीजे पर हमला कराने का आरोप लगाया है। फिलहाल पुलिस मामले की जांच में जुटी है।

3 दिन पहले बसपा छोड़ रालोद का दामन थमने वाले पूर्व ब्लॉक प्रमुख हाजी यूनुस के काफिले पर कल दोपहर बाद उस समय कार सवार बदमाशों ने ताबड़तोड़ फायरिंग शुरू कर दी जब वह भाईपुरा में एक शादी समारोह में शिरकत करने के बाद मिर्जापुर की तरफ से बुलंदशहर लौट रहे थे। हमलावर फायरिंग करने के बाद फरार हो गए। ताबड़तोड़ फायरिंग में हाजी यूनुस के 4 समर्थक गोली लगने से घायल हुए है। ताबड़तोड़ फायरिंग इलाके में हड़कंप मच गया आनन-फानन में अन्य वाहनों में सवार समर्थकों ने गोली लगने से घायल हुए हाजी यूनुस के समर्थकों को जिला अस्पताल पहुंचाया जहां से उन्हें गंभीर हालत के चलते हर मेडिकेयर सेंटर के लिए रेफर कर दिया गया। वारदात की जानकारी शहर में आग की तरह फैल गई। आज भी उनके समर्थक जिला अस्पताल पर एकत्र होने लगे हैं।
फायरिंग में इन लोगों को लगी गोली:-
एसएसपी संतोष कुमार सिंह ने बताया कि हाजी यूनुस के काफिले में गोली लगने से खालिद 45 वर्ष पुत्र नूर हसन निवासी ग्राम अकबरपुर, शादाब 28 वर्ष पुत्र रफीक निवासी ऊपरकोट बुलंदशहर, अफजाल 26 वर्ष पुत्र यामीन निवासी कमालपुर, शमीम आलम 36 वर्ष पुत्र नबी आलम निवासी कमालपुर, राशिद 45 वर्ष पुत्र हनीफ निवासी नरसल घाट बुलंदशहर घायल हो गये। घायलों को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां से गंभीर घायलों को हर मेडिकल सेंटर के लिए रेफर कर दिया गया। जानकारी मिली है कि नोएडा अस्पताल जाते समय खालिद की मौत हो गई है।

पुलिस से की थी सुरक्षाकर्मियों की मांग:-
रालोद नेता व पूर्व ब्लाक प्रमुख हाजी यूनुस गाजी ने बताया कि उन्होंने पुलिस से पहले भी अपने हत्या किए जाने की आशंका जताई थी और सुरक्षाकर्मियों की मांग की गई थी। मगर उन्हें सुरक्षा कर्मी नहीं मिले। यूनुस गाजी ने बताया कि यदि उनके पास सरकारी सुरक्षाकर्मी होते तो शायद हम पर हमला नहीं होता यह हमलावर मारे जाते।
वारदात की जानकारी मिलते ही एसएसपी संतोष कुमार सिंह व जिलाधिकारी चंद्र प्रकाश सिंह तत्काल जिला अस्पताल पहुंचे और घायलों का यथासंभव उपचार शुरू कराया। गंभीर घायलों को जिला अस्पताल से हायर मेडीकल सेंटर के लिये रेफर किया गया, एसपी संतोष कुमार सिंह ने बताया कि 3 बजे की घटना है, फायरिंग में 5 लोगों को गोली लगने की खबर है, एसएसपी ने बताया कि हाजी यूनुस ने अपने ही भतीजे अनस पर जो जेल में बंद है, हमला कराने का अंदेशा जताया है। फिलहाल पुलिस मामले की हर बिंदु से जांच कर रही है। उन्होंने बताया कि हमलावरों को किसी भी सूरत में बख्शा नहीं जाएगा।
यूनुस को बचाने के लिये खालिद ने कर दी जान कुर्बान:-
अपने दोस्त को बचाने के लिए खालिद ने दे दी जान। प्रत्यक्षदर्शियों की मानें तो जब हमलावर ताबड़तोड़ फायरिंग कर रहे थे। तो रालोद नेता यूनुस गाजी अपनी ऑडी कार में बीच की सीट पर बैठे थे। ड्राइवर के मूह में गोली लगना बताया जा रहा है। सामने से हो रही गोलियों की बौछार देख बराबर में बैठे खालिद ने यूनुस को बचाने के लिए यूनुस के ऊपर लेट गया और यूनुस को बचा लिया। मगर 5 गोली खाकर दोस्ती पर अपनी जान कुर्बान कर दी।

22 गोलियों के निशान ऑडी पर, जमीन पर दर्जनो खोका कारतूस मिले:-
बताया जाता है कि घटनास्थल पर कई दर्जन गोलियां चली जिनमें से दर्जनों खोके घटनास्थल पर पड़े थे, जबकि हाजी यूनुस की ऑडी कार व उनके समर्थकों की कार पर दर्जनों गोलियों के निशान हैं। सर्वाधिक निशान हाजी यूनुस की ऑडी कार पर हैं। 

जेल से तो नही रची गयी हमले की साजिश:-
अनस पूर्व विधायक हाजी अलीम का पुत्र है जो अपने ही पिता की हत्या के आरोप में जिला कारागार में बंद है और हाजी यूनुस गाजी का भतीजा है। हाजी यूनुस गाजी ने अपने भतीजे पर हमले का अंदेशा जताकर एक बार फिर जेल से साजिश रचने की बात को बल दे दिया है। हाजी यूनुस की बात माने तो जिला कारागार में बंद अनस ने जेल से हमले की साजिश रची थी, यह बड़ा सवाल है। हालांकि एसएसपी संतोष कुमार सिंह व जिलाधिकारी चंद्र प्रकाश सिंह ने दो टूक कहा है कि हर बिंदु की जांच होगी।
Reactions