Businessman sandeep gupta case update: कारोबारी संदीप गुप्ता की हत्या मामले में पुलिस को मिली अहम जानकारी, जानिए- DIG ने क्या कहा?

          जांच में मिली ये जानकारी:-

अलीगढ़, N.I.T. : यूपी के अलीगढ़ में दिहदहाड़े गोली चलने से सनसनी फैल गई. एटा के रहने वाले बड़े सीमेंट व्यापारी संदीप गुप्ता की अज्ञात अपराधियों ने कल अलीगढ़ में गोली मारकर हत्या कर दी. मृतक कारोबारी घटना से करीब एक घंटे पहले अलीगढ़ के डीआईजी दीपक कुमार से भी मिला था. इस संबंध में डीआईजी ने जानकारी दी है. उन्होंने कहा, 'कारोबारी संदीप गुप्ता अपने कारोबार के सिलसिले में मुझसे मिलने आए थे. रात में 7:30 बजे के करीब हमारी मुलाकात हुई थी.

डीआईजी ने कहा, 'हमारी मुलाकात के बाद रात करीब नौ बजे वे घर से निकले और रस्ते में उन्होंने गाड़ी रोककर अपने ड्राइवर को पान लाने के लिए कहा. उसी क्रम में दो बदमाश आए और उनपर फायरिंग की. उनको गोली लगी. हॉस्पिटल जब ले जाया गया. लेकिन वहां उनकी मौत हो गई.

जांच में मिली ये जानकारी:-
उन्होंने कहा, 'अभी तक जो चीजें निकल कर आ रही है, उसमें उनकी एक रंजीश सामाजिक तौर पर हो गई थी. अलीगंज जहां के ये रहने वाले हैं, वहां की एक लड़की की शादी अलीगढ़ में हुई थी और उसमें इनकी जानने वाले थे. लड़की के माता-पिता कोविड पीरियड में नहीं रहे. लड़की ने ससुराल वालों पर आरोप लगाया. मुकदमा अलीगंज में हुआ और सामाजिक तौर पर यह पैरवी कर रहे थे. समझौता इन्होंने करवाया. उस क्रम में क्योंकि इनका लॉजिस्टिक का बड़ा कारोबार था. इस बात को वहां के फैक्टरी वालों ने भी बताया. राजीव अग्रवाल जोकि रिश्तेदार था, समधी लगता है अलीगंज वालों की उनकी गाड़ी को इन्होंने बंद कर दिया था. इनका जो लड़का था वह रंजिश रखता था.

उन्होंने आगे कहा, 'राजीव अग्रवाल को हमने पूछताछ के लिए हिरासत में ले लिया है. परिवार का भी संदेह था इस लाइन पर और उसका बेटा था जिस पर 498 का मुकदमा था लड़की को प्रताड़ित करने का उसको टीम को भेजा है हमारी टीम उनके बेटे को ढूंढ रही है. अभी वह नहीं मिला है. इसके अलावा भी जो डंप डाटा है, उसको हम ले रहे हैं क्योंकि कोई प्रत्यक्ष विवाद परिवार के द्वारा अभी तक नहीं बताया गया है, ना ही उनके द्वारा आज तक किसी पुलिसकर्मी को बताया गया है. इस पूरे केस को हम लोग जल्दी सुलझा लेंगे.'

घटना के बारे में दी ये जानकारी:-
घटना के बारे में जानकारी देते हुए उन्होंने बताया, 'दो बदमाश जिस गाड़ी से आए थे, उस गाड़ी को हमने बरामद कर लिया है. बदमाशों ने इस गाड़ी को मथुरा से अक्टूबर के महीने में उठाया था.' उन्होंने आगे कहा, 'सीसीटीवी फुटेज भी हाथ लगे हैं. इस आधार पर आगे की जांच की जा रही है. यह रेकी की घटना है, ऐसी संभावना कम है. फैक्ट्री के लोगों से भी पूछताछ में ऐसी बात सामने नहीं आई है. हमारी सभी टीमें लगी हुई हैं. पूरे डेटा का एनालिसिस हमारी टीम कर रही है. जल्दी इस मामले का खुलासा होगा.
Reactions