Kaimganj: भाई ने मृत बहन का शव पुलिस की मौजूदगी में कब्र से निकलवाया बाहर, हत्या की जताई आशंका

फर्रुखाबाद/कायमगंज, N.I.T. : कोतवाली कायमगंज के मोहल्ला चिलौली पठान में उस समय सनसनी फैल गई जब पर्याप्त पुलिस बल यहां स्थित कब्रिस्तान में दफन एक महिला के शव को बाहर निकालने के लिए खुदाई कराने लगा। जिसे देखकर मौके पर काफी लोगों की भीड़ जमा हो गई। इस सनसनीखेज मामले में मोहल्ला अनवारूल हुदा कंपाउंड सिविल लाइंस जनपद व नगर अलीगढ़ निवासी आदिल शाह ने पुलिस को तहरीर देकर कहा है कि उसने अपनी बहन इमराना की शादी कायमगंज चिलौली पठान निवासी असीम पुत्र नसीम खान के साथ वर्ष 2013 में मुस्लिम रीति रिवाज के अनुसार 10 लारव रुपए दहेज में खर्च कर की थी। कुछ समय तक तो सब कुछ ठीक-ठाक चलता रहा। इस बीच मेरी बहन ने एक लड़का तथा एक लड़की, 2 बच्चों को जन्म दिया। किंतु पिछले काफी समय से उसका पति तथा बहन बहनोई एवं सास 20 लाख रुपए नकद तथा एक कार अतिरिक्त दहेज के रूप में लाने की जिद करके मेरी बहन को आए दिन मारपीट कर प्रताड़ित करने लगे। इसकी सूचना मेरी बहन ने फोन पर मुझे दी। मैंने 2 दिन में आकर मामला समझने की बात कह कर अपनी बहन को आश्वस्त किया। इसके दूसरे दिन ही मेरी बहन उसके पति असीम, सास नुजहत, ननंद नाजिया, तथा नंदोई नाजिम ने बेरहमी से मारपीट कर मौत के घाट उतार दिया और इसकी सूचना 9 दिसंबर को मुझे 6:30 बजे असीम ने फोन करके दी। 

अपनी बहन की मौत की खबर पाते ही हम लोग यहां कायमगंज उसकी ससुराल आ गए। तब तक यह लोग उसे दफनाने के लिए तैयारी कर चुके थे। मैं अपनी बहन के गम में बेसुध सा हो गया था। इसी बीच इन लोगों ने मेरी बहन को मेरी बिना मर्जी के कब्रिस्तान में ले जाकर दफन कर दिया। भाई का आरोप है कि जिस समय यह लोग बहन को दफनाने के लिए लेकर जा रहे थे। उस समय उसने देखा था कि मेरी बहन के सिर पर चोट थी। इसके अलावा शरीर के अन्य भागों पर भी चोटों के निशान थे। आरोप है कि इमराना की मारपीट कर हत्या कर दी गई। मामले को छिपाने के लिए उसके शव को दफना दिया गया। 

भाई की तहरीर पर थाना पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर ली है। जिसमें पति असीम, सास नुजहत, ननंद नाजिया तथा नंदोई नाजिम को आरोपी बनाया गया है। मुकदमा दर्ज होने के बाद सक्रिय हुई पुलिस ने उप जिलाधिकारी गौरव शुक्ला की उपस्थिति में कब्रिस्तान में दफन इमराना के शव को खुदवा कर बाहर निकलवाया। प्रकरण संवेदनशील होने के कारण इस अवसर पर प्रभारी निरीक्षक संजय कुमार मिश्रा, कस्बा चौकी इंचार्ज रहमत खान, एसआई सोहेल खान भारी पुलिस बल के साथ मौजूद रहे। कब्र से निकाले गए शव का पंचनामा भरकर पोस्टमार्टम के लिए भिजवा दिया गया।

उधर मृतका के ससुराल वाले मोहल्ले के लोग कह रहे थे कि दफन हुए शव को बाहर निकालना ठीक नहीं है। यदि मृतका के मायके वालों को ऐसा ही करना था तो उन्हें उसी समय कार्यवाही करनी चाहिए थी। जब शव को दफनाने के लिए उनकी मौजूदगी में ही ले जाया जा रहा था।

रिपोर्टर अमान खान
Reactions